कपास उत्पादन बढ़ाने को मिलेगा ,किसानों को दिया गया प्रशिक्ष

आपको पता ही होगा की देश में विभिन्न फसलों का उत्पादन बढ़ाने के साथ ही किसान कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकें इसके लिए कृषि विश्वविद्यालयों के द्वारा किसानों को प्रशिक्षण दिया जाता है। इस कड़ी में चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा किसानों को कपास का उत्पादन बढ़ाने, उन्नत किस्म के बीजों एवं तकनीकी जानकारी जरूरी हो गई

प्रशिक्षण शिविर में अनुसंधान निदेशक डॉ. जीतराम शर्मा ने किसानों को बताया कि गुलाबी सुंडी का प्रकोप खेतों में रखी हुई लकड़ियों छटियों (बन सठियों) के अवशेष पड़े रहने के कारण फैलता है। इसलिए फसल कटाई के बाद उनका प्रबंधन किया जाना जरुरी है। सायना नेहवाल कृषि प्रौद्योगिकी प्रशिक्षण एवं शिक्षा संस्थान के सह-निदेशक प्रशिक्षण डॉ. अशोक गोदारा ने बताया कि संस्थान द्वारा प्रशिक्षण दिये जा रहे है

यह भी पढ़े : 28 किमी की माइलेज! आप इसे एक बार फुल टैंक करते हैं। 1200km इसके आगे सेल्टोस और क्रेटा भी फेल!

कपास उत्पादन बढ़ाने को मिलेगा ,किसानों को दिया गया प्रशिक्ष

किस तरह बढ़ायें कपास का उत्पादन

आपको बता दे की डॉ. करमल सिंह ने प्रदेश में कपास उत्पादन के लिए आवश्यक सस्य क्रियाओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मिट्टी नरमा के लिए शुद्ध नाइट्रोजन, शुद्ध फास्फोरस, शुद्ध पोटाश एवं जिंक सल्फेट क्रमशः 70:24:24:10 किलोग्राम प्रति एकड़ डालने की सिफारिश की जाती है। उर्वरक की मात्रा मिट्टी की जाँच के आधार पर तय की जानी चाहिए। आपको बता दे की पाँच से छः साल में एक बार 5 से 7 टन गोबर की खाद डालना उससे फल अच्छी होती|

आपको बता दें कि कपास के अनुभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. सोमवीर ने कपास की मुख्य विशेषताओं एवं किस्मों के बारे में किसानों को अवगत कराया। कीट वैज्ञानिक डॉ. अनिल जाखड़ ने कपास में लगने वाले कीट व उनके प्रबंधन के लिए किसानों को जानकारी दी।

यह भी पढ़े :Rajdoot RX100 नए अवतार में जल्द ले सकती है एंट्री, इन जबरदस्त फीचर्स के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *